Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (ख्बाब)

गज़ल (ख्बाब)

ख्बाब था मेहनत के बल पर , हम बदल डालेंगे किस्मत
ख्बाब केवल ख्बाब बनकर, अब हमारे रह गए हैं

कामचोरी, धूर्तता, चमचागिरी का अब चलन है
बेअरथ से लगने लगे है ,युग पुरुष जो कह गए हैं

दूसरों का किस तरह नुकसान हो सब सोचते है
त्याग ,करुना, प्रेम ,क्यों इस जहाँ से बह गए हैं

अब करा करता है शोषण ,आजकल बीरों का पौरुष
मानकर बिधि का विधान, जुल्म हम सब सह गए हैं

नाज हमको था कभी पर, आज सर झुकता शर्म से
कल तलक जो थे सुरक्षित आज सारे ढह गए हैं

गज़ल (ख्बाब)
मदन मोहन सक्सेना

409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रश्न  शूल आहत करें,
प्रश्न शूल आहत करें,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ ट्रिक
■ ट्रिक
*Author प्रणय प्रभात*
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
तुम गंगा की अल्हड़ धारा
Sahil Ahmad
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
समय
समय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
कवि दीपक बवेजा
Loading...