Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

गौरैया

बहुत जगह पढ़ा
बहुत लोगों से सुना
कि
अब गौरैया नहीं दीखती
नहीं दीखती अब गौरैया
सन् 2011 के 30 अक्टूबर को
मेरे घर जन्मी एक गौरैया
मेरी पुत्री के रूप में
उसी माह मेरे घर के छज्जे के नीचे
एक गौरैया ने अपना घोंसला बनाया
2015 में मेरा परिवार बढ़ा
एक गौरिया छोटी बिटिया के रूप में और जन्मी
इधर मेरा परिवार बढ़ा
उधर उस गौरैया के परिवार में वृद्धि हुई
मेरी बेटियां की तब से
सात सहेलियां हैं गौरैया के रूप में
सुबह स्कूल जाने से पहले
बेटी उनकी खाने पीने का इंतज़ाम करना
नहीं भूलती कभी
और गौरैयाँ भी
उसे दिन भर
अपने विभिन्न करतबों से
हम सभी का मन हरती हैं
मेरी बेटियां उनसे
वे मेरी बेटियों से खेलती है
लोग मेरे घर आते हैं
कहते हैं
आपके घर गौरैयां दीखती हैं।
दीखती हैं गौरैयाँ मेरे घर
मेरी बेटियों की सहेलियां हैं वे
घर का आँगन
इनकी खिलखिलाहट
चहचहाट से
प्रफुल्लित रहता है दिन रात।

185 Views
You may also like:
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कर्म का मर्म
Pooja Singh
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
Security Guard
Buddha Prakash
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरे साथी!
Anamika Singh
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...