Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 2 min read

गौरैया

आज सुबह प्रार्थना के बाद जब विश्राम के लिये चली तो पंखुरी की चीं ची ने मुझे आवाज़ दी आँख में आँसू थे मैंने पूछा क्या हुआ ?
जो उसने कहा सुनकर मन लज़्ज़ा और क्रंद से भर गया ।
आप भी सुनिये और कुछ करिए भी

सुन हे मनुष्य, मैं निरीह गौरया
जब से शुरू हुई आधुनिक प्रगति
कभी किसी को मेरा ख्याल न आया
अब घर में माँ भी आटे की चिड़िया नहीं बनाती
मैं गौरया हूँ सुत को नही बताती
अरे इन ऊँची ऊँची अट्टालिकाओं ने
मुझे आंगन से फुर्र कर दिया
इस आधुनिकता ने घर से आंगन हटा दिया
अब तो कुछ खलिहान बचे है
पर जीवित कैसे रहूँ मैं वहां पर भी कीटनाशक इतने है
जो भी खाती हूँ उसमें ज़हर होता है
ऐ मानव मूर्ख, तू भी फल समझ जिसे खाता है
खो रही हूँ अस्तित्व मैं धीरे-धीरे पर तेरी संस्कृति भी खो रही है
तुझे पता है तक्षशिला में मेरा उल्लेख हुआ था
नालन्दा में मैंने भी भारत का उत्कर्ष देखा है
इन कल कारखानों ने सब नष्ट कर दिया
हे प्राणी श्रेष्ठ, मेरे अस्तित्व के साथ साथ मानवता भी सिसक रही है
तुझे दिखाई नहीं देता बचपन की उत्सुकता मर रही है
हे मनुज श्रेष्ठ, मैंने ये जाना तू ईश्वर तुल्य कृति है
यदि तू चाहे तो बचा सकता है मुझे,सभ्यता को भी
गाय को भी, मेरे अन्य जीव जन्तु साथियों को भी
देख मान तुझे ही ईश्वर मैं करती हूँ प्रार्थना
बचा ले खुद को, खुद के अर्थ को, इस प्रकृति को
जो तुम्हारी है, तुम्हारे लिये है, मेरी ची चीं में बचपन है
तेरा प्यारा दर्पण है, भविष्य का चिंतन है
धन ही जीवन नहीं, ब्रांड ही पहचान नहीं है
पहचान है विचार, उनकी श्रेष्ठता, मानवता
मैं निरीह गौरया,मैं तो निरीह गौरया
करती बचपन संग मैं त थ थैया
मैं निरीह गौरया,मैं तो निरीह गौरया

Language: Hindi
17 Likes · 6 Comments · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
*रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्त
*रामपुर दरबार-हॉल में वाद्य यंत्र बजाती महिला की सुंदर मूर्त
Ravi Prakash
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
🙂
🙂
Sukoon
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सात जन्मों की शपथ
सात जन्मों की शपथ
Bodhisatva kastooriya
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
Loading...