Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA

और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA

जुताई बुआई जबसे
होने लगी मशीनों से
बछड़े हुए जान के जवाल किसानों के लिए
जैसे कि बेटों की चाह वाले समाज में
नालायक बेटों से लोग
नाक में दम हुआ महसूस करते हैं

गाय माता तो एकदम अबोध
गौ होना मुहावरा तभी बना उसके नाम पर
जबकि इधर
नहीं चाहते गोभक्त भी
कि कोई गाय बैलों को जने
क्योंकि बैल अब उनके काम के नहीं रहे
आई गोवंश के बैलों पर शामत
कि स्वयंभू गौपुत्र पीछे पड़े हैं बेचारे बैलों के
मनुष्य के धर्म फेरे में पड़
सफ़ेद हाथी और हलाल हुआ बैल ज्यों

बूढ़ी बिसूखी गाय जो
भक्त मनुष्य की पवित्र माता है
धार्मिकों के लिए मुश्किल हुआ घर में रखना उसको
ज्यों बूढ़ी माएं रख दी जाती हैं वृद्धाश्रमों में धर्मसंकट विकट कि ये पवित्र धर्म–पशु
कसाई को भी कैसे बेचे जाएं
इधर, जान छुड़ाने को
धर्म को रख ताखे पर
चोरी चुपके बूढ़ी गायों को
कर आ रहे लोग
कसाई के हवाले
पाप पुण्य का गणित भुलाए!

Language: Hindi
222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*आओ पूजें वृक्ष-वट, करता पर-उपकार (कुंडलिया)*
*आओ पूजें वृक्ष-वट, करता पर-उपकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।
*प्रणय प्रभात*
मित्रता क्या है?
मित्रता क्या है?
Vandna Thakur
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
आशा की किरण
आशा की किरण
Neeraj Agarwal
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
Loading...