Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले

गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले
पलको पे उनको अपनी बिठाकर तो देख ले
दुनिया में फिर से गैर कोई होगा न कभी
स्वार्थ का पर्दा दिल से हटा कर तो देख ले
कृष्णकांत गुर्जर

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
बेज़ार सफर (कविता)
बेज़ार सफर (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
"सचमुच"
Dr. Kishan tandon kranti
वो गली भी सूनी हों गयीं
वो गली भी सूनी हों गयीं
The_dk_poetry
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
Ravi Prakash
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
सोशल मीडिया पर
सोशल मीडिया पर
*प्रणय प्रभात*
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
मेरे कृष्ण की माय आपर
मेरे कृष्ण की माय आपर
Neeraj Mishra " नीर "
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“यादों के झरोखे से”
“यादों के झरोखे से”
पंकज कुमार कर्ण
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
Loading...