Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

“गुल्लक”

“गुल्लक”
मुझे ना समझना ऐसे-वैसे,
मेरे पास है गुल्लक में पैसे।
सिक्के-सिक्के जोड़े हैं ऐसे,
मानो ना मिला हो कोई पैसे।
दादी पूछी खर्च करोगे कैसे,
गुल्लक में भरे जो तेरे पैसे।
खरचूंगा तभी गुल्लक के पैसे,
अगर कम पड़ेगा जेब में पैसे।

6 Likes · 4 Comments · 347 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
पसोपेश,,,उमेश के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
कवि दीपक बवेजा
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
2680.*पूर्णिका*
2680.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
केवल
केवल
Shweta Soni
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...