Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

गुलामी की ट्रेनिंग

पहले तो हुई ब्रेन वाशिंग
फिर सोशल कंडीशनिंग!
आज की नहीं,
कल की नहीं,
हफ़्ते, महीने
या साल की नहीं,
जनता को दी गई गुलामी की
यहां पीढ़ी दर पीढ़ी ट्रेनिंग!
#अंबेडकर #मनुवाद #जाति
#सामंतवाद #पितृसत्ता #वर्ण
#पोंगापंथ #जातिवाद #धर्म
#ambedkar #Casteism
#शूद्र #स्त्री #पिछड़ा #आदिवासी

Language: Hindi
400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan Alok Malu
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
दिनकर शांत हो
दिनकर शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
self doubt.
self doubt.
पूर्वार्थ
उसका चेहरा उदास था
उसका चेहरा उदास था
Surinder blackpen
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
चोट ना पहुँचे अधिक,  जो वाक़ि'आ हो
चोट ना पहुँचे अधिक, जो वाक़ि'आ हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपका आकाश ही आपका हौसला है
आपका आकाश ही आपका हौसला है
Neeraj Agarwal
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
Loading...