Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 2 min read

गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹

सात फरवरी आती है तो
वेलेंटाइन वीक कहा जाता है
रोज डे नाम दिया इसको
यही पहला दिन कहलाता है

इसी रोज डे की सब कहते
यही अपनी एक कहानी है
अपने करीबी को इसी दिन
दी जाती यह एक निशानी है

गुलाब का फूल दिया जाता है
अपने करीबी मित्र प्यारे को
सब अच्छा मूक प्रतीक मानते
इस प्यार से भरे नजारे को

खुद नही बताई जाने वाली
फीलिंग्स एक्सप्रेस रहे है मान
परंपरा गत गुलाब के फूल का
करते हैं आदान और प्रदान

इस लाल गुलाब को कहा गया
जुनून प्रतीक और प्यार का
रोज डे के दिन गुलाब भेजना
फैशन हो चुका संसार का

यह जो लाल गुलाब भेजते
इसे प्रेम प्रतीक कहा जाता है, लाल गुलाब भावुकता, लालसा
प्रेम की गहराई को दर्शाता है

गुलाबी रंग गुलाब को तारीफ
और प्रशंसा के लिए देते है
अपनापन को दर्शाने वाला है
इसे मान खुशी से लेते है

पीले रंग गुलाब दोस्ती को
है खुशी अपनापन दर्शाये
दोस्ती की शुरुआत यदि तो
उसे पीला गुलाब दिया जाये

सफेद रंग पवित्रता, शांति
है एकता का रंग माना जाता
लंबे समय तक बरकरार रहे
है शाश्वत शुद्ध प्रेम को दर्शाता

ऑरेंज गुलाब- रोज़ डे को
कामुक आकर्षण का प्रतीक
है जैसा भाव दोस्त के प्रति
वैसा ही गुलाब देना रहे ठीक

है काला रंग शोक शत्रु का
निधन,और दुख बतलाये
यह इसलिए सब कहते है
नही काला गुलाब दिया जाये

हरा गुलाब जीवन,वृद्धि
उत्साह का कहा जाता है
गुलाबी का रंग गुलाब हो
यह आभार सदा दर्शाता है

सात फरवरी आती है तो
वेलेंटाइन वीक कहा जाता है
रोज डे नाम दिया इसको
यही पहला दिन कहलाता है

41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
पैसा सौगात के नाम पर बंटे
*Author प्रणय प्रभात*
*तुम्हारे हाथ में है कर्म,फलदाता विधाता है【मुक्तक】*
*तुम्हारे हाथ में है कर्म,फलदाता विधाता है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
" कुछ काम करो "
DrLakshman Jha Parimal
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
Shashi kala vyas
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रीति
प्रीति
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Loading...