Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

गुलाब के अलग हो जाने पर

गुलाब के अलग हो जाने पर
डाली को शोक मनाते देखा है
जो कहते हैं फ़र्क नही पड़ता है
उनके सूनी आँखों में
समुंदर मैंने देखा है।।

Ruby kumari

1 Like · 538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/15.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
#ग़ज़ब
#ग़ज़ब
*प्रणय प्रभात*
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
Basant Bhagawan Roy
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
हमको गैरों का जब सहारा है।
हमको गैरों का जब सहारा है।
सत्य कुमार प्रेमी
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
Ravi Prakash
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...