Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

गुलमोहर

वे गुलमोहर बने रहे सदा तुम्हारे लिए
जब तुमने इस चिलचिलाती धूप में फरमाइश की
एक ठंडी और हरी छांव की
वे अपने छोटे-छोटे पत्तों से छतरी बनाकर
तत्पर रहे
झूलसती गर्मी में
उसके फूलों ने सींचा होगा
तुम्हारे सपनों को कभी
कभी सजाया होगा
तुम्हारे सपनों को अपने चटक रंगों से
पर तुम?
बैठ कर उसी की छाया में
काटते रहे उसकी जड़ें
सूरज की धूप से वे डरे नहीं कभी
तो तुमने भर-भर तश्तरी अंगारे बरसाए
गुलमोहर के झुलस जाने के बाद
फिर महसूस होगी जरूरत
किसी गुलमोहर की
और उन्हीं चटक रंगों के गुलमोहर

Language: Hindi
1 Like · 26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"चंचल काव्या"
Dr Meenu Poonia
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
पं अंजू पांडेय अश्रु
संवेदनाएं जिंदा रखो
संवेदनाएं जिंदा रखो
नेताम आर सी
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बदलते मूल्य
बदलते मूल्य
Shashi Mahajan
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
आहिस्था चल जिंदगी
आहिस्था चल जिंदगी
Rituraj shivem verma
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
बड़ी मुद्दतों के बाद
बड़ी मुद्दतों के बाद
VINOD CHAUHAN
टीस
टीस
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चलो कुछ नया करते हैं
चलो कुछ नया करते हैं
AMRESH KUMAR VERMA
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
Loading...