गुरु तेग बहादुर जी

मुस्लिम आक्रांता औरंगजेब का, अत्याचार था जारी
मार-काट मची थी भारत में, धर्म जबरन रहा विगारी
मार मार मुसलमान कर रहा, धर्म स्थल रहा उजारी
गुरु तेग बहादुर जी ने भारत में विगडी बात संवारी
जप तप और सुमिरन ध्यान से,आत्म बल सम्मान जगाया
शीश दिया पर धर्म न छोड़ा, औरंगजेब थर्राया
लड़ते हुए मुगलों से, गुरूजी ने बलिदान दिया
गुरु प्रकाश बने जन जन के, सर्वस्व धर्म पर लुटा दिया
गुरु तेग बहादुर जी ने जन जन में,आत्म सम्मान जगाया
जहां गुरु ने शीश दिया, अब शीशगंज गुरुद्वारा है
भारतवर्ष का गौरव है,परंम प्रकाश हमारा है
वाहेगुरु जी का खालसा वाहे गुरु जी की फतह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 22 Views
You may also like:
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H.
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
पापा
सेजल गोस्वामी
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक संकल्प
Aditya Prakash
प्रार्थना
Anamika Singh
* उदासी *
Dr. Alpa H.
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
हमारी जां।
Taj Mohammad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
"ईद"
Lohit Tamta
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
Loading...