Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

गुरु तेग बहादुर जी

मुस्लिम आक्रांता औरंगजेब का, अत्याचार था जारी
मार-काट मची थी भारत में, धर्म जबरन रहा विगारी
मार मार मुसलमान कर रहा, धर्म स्थल रहा उजारी
गुरु तेग बहादुर जी ने भारत में विगडी बात संवारी
जप तप और सुमिरन ध्यान से,आत्म बल सम्मान जगाया
शीश दिया पर धर्म न छोड़ा, औरंगजेब थर्राया
लड़ते हुए मुगलों से, गुरूजी ने बलिदान दिया
गुरु प्रकाश बने जन जन के, सर्वस्व धर्म पर लुटा दिया
गुरु तेग बहादुर जी ने जन जन में,आत्म सम्मान जगाया
जहां गुरु ने शीश दिया, अब शीशगंज गुरुद्वारा है
भारतवर्ष का गौरव है,परंम प्रकाश हमारा है
वाहेगुरु जी का खालसा वाहे गुरु जी की फतह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 727 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
मिस्टर मुंगेरी को
मिस्टर मुंगेरी को
*Author प्रणय प्रभात*
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
Ranjana Verma
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh Manu
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
"जब रास्ते पर पत्थरों के ढेर पड़े हो, तब सड़क नियमों का पालन
Dushyant Kumar
"दुर्भिक्ष"
Dr. Kishan tandon kranti
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
💐प्रेम कौतुक-371💐
💐प्रेम कौतुक-371💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
दिल की हक़ीक़त
दिल की हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
Suno
Suno
पूर्वार्थ
बाल कविता मोटे लाला
बाल कविता मोटे लाला
Ram Krishan Rastogi
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...