Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

गुम हो गया न जाने क्या क्या करता होगा

गुम हो गया न जाने क्या क्या करता होगा !
खुदा वो कैसा होगा किस हाल में रहता होगा !!

भाई , मेरे बिना एक पल भी नही रहता था ,
पता नही किस काल कोठरी में सड़ता होगा !!

दिन भर साथ लड़ता झगड़ता मस्ती करता ,
अब भूखा प्यासा इधर उधर भटकता होगा !!

बिना खाये दुबला पतला कमजोर होकर ,
मेरा भाई लड़खड़ाकर रस्ते में चलता होगा !!

अभी बच्चा है बाहर की दुनिया नही देखा ,
बड़े बड़े लोगो को देख कर डरता होगा !!

याद तो आती होगी उसे भी पर क्या करे ,
बेचारा अकेले में जोर जोर से रोता होगा !!

हाथ जोड़कर ईश्वर से कह रहा जुगनू ,
प्रभू ऐसे लोगो का कौन दुःख हरता होगा ?

278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
Suryakant Dwivedi
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
नींदों में जिसको
नींदों में जिसको
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
🙅सनातन संस्कृति🙅
🙅सनातन संस्कृति🙅
*प्रणय प्रभात*
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
Ravi Prakash
गुम है
गुम है
Punam Pande
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
सुधि सागर में अवतरित,
सुधि सागर में अवतरित,
sushil sarna
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
Loading...