Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

, गुज़रा इक ज़माना

गुज़रा इक ज़माना,तेरे इंतज़ार में सनम।
कैसे करें शिकायत,और किससे कहे हम।

मन की घुटन से घुटने लगा था जब दम
मजबूरन उठानी पड़ी , फिर मुझे कलम।

समाज ने सवाल पूछे मुझसे भारी भरकम
कुछ अलग ही उठाने पड़े, मुझे कदम।

तुम्हारी आंख‌ कभी, हो न अश्क से नम
हर सजदे के साथ यही दुआ करते हैं हम।

सुरिंदर कौर

1 Like · 117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
DrLakshman Jha Parimal
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
वो मुझे रूठने नही देती।
वो मुझे रूठने नही देती।
Rajendra Kushwaha
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*पेड़ (पाँच दोहे)*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
आनन्द मिश्र
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
दोहा
दोहा
sushil sarna
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
याद
याद
Kanchan Khanna
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल (ज़िंदगी)
ग़ज़ल (ज़िंदगी)
डॉक्टर रागिनी
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
महसूस तो होती हैं
महसूस तो होती हैं
शेखर सिंह
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
"कलाकार"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
उस दर पर कोई नई सी दस्तक हो मेरी,
उस दर पर कोई नई सी दस्तक हो मेरी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हिन्दु नववर्ष
हिन्दु नववर्ष
भरत कुमार सोलंकी
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सबक
सबक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
Loading...