Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

गीत

चाहत
तू ही तो है चाहत, तू ही तो है राहत,
पंछी मैं तू, भोर की पहली किरन,
तुझे न देखूं तो, दिल में उदासी,
जो देखूं तुझे, दिल में आशा-किरन.
चेहरों में इक तेरा, चेहरा सुहाना,
मिला है इन आंखों को, ख़ुशी का खजाना,
नज़र चेहरे से, कहती हैं कुछ तेरे,
जैसे हिमालय से कहे सूरज-किरन.
दिल कहना चाहे पर धक-धक करे,
अपना मोल अपने से कब तक करे,
चांद तकता चकोर सा दिल बेचारा,
इक तरफा इश्क नादांं कब तक करे,
तू ही अब कह दे दिल से पागल हो गया,
जो इक दरिया पर पोखर मायल हो गया,
मगर दिल फिर भी तो, आशिक दीवाना,
तुझ पे चाहता है, खुद को मिटाना,
छाए हैं बादल, मेरे इस दिल पर,
बरसो या आने दो, दिल में किरन.

तेरी मर्जी
मेरी ज़िन्दगी में तेरा रंग भरना,
तेरा रंग भरके बेरंग करना.
ढूंढ रहा हूं मौजूदगी को,
मेरी ज़िन्दगी में तेरी ज़िन्दगी को.
तूने किया है खुद से जुदा,मैं
टूटा सा तारा खफा हूं खुदा से.
तेरी थी मर्जी तेरा ही बहाना,
किसी और का तेरे दिल में ठिकाना.
टूटा सा तारा मुझको बनाकर,
खुदको ही मांगा है मुझको मनाकर.
पंकज बिंदास

Language: Hindi
1 Like · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ
माँ
Shyam Sundar Subramanian
Interest
Interest
Bidyadhar Mantry
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
VINOD CHAUHAN
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
भोर समय में
भोर समय में
surenderpal vaidya
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
■ सोशल लाइफ़ का
■ सोशल लाइफ़ का "रेवड़ी कल्चर" 😊
*Author प्रणय प्रभात*
छात्रों का विरोध स्वर
छात्रों का विरोध स्वर
Rj Anand Prajapati
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
Loading...