Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2023 · 1 min read

गीत

झिलमिलाते स्वप्न सी
आभास हो तुम
भोर के पहली किरण की
आस हो तुम

रात की अनुगूँज
अन्तर्वेदना हो
मूर्तिमय शबनम
प्रभाती चेतना हो
मखमली सी सांध्य रवि के
पास हो तुम

चन्द्र को आलोक
और रवि उष्णता।
दे धरा को धैर्य
नभ को नव्यता I
मौन को मुस्कान देती कल्पना
विश्वास हो तुम

शोर संशय दूर करती
बाँचती नीरव प्रभा।
व्याकरण के घर में करती
स्वर सुरों की एक सभा ।
शब्द की प्रस्तावना का एक नया
इतिहास हो तुम।

Language: Hindi
1 Like · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
हमें क़िस्मत ने
हमें क़िस्मत ने
Dr fauzia Naseem shad
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
अभी तो साँसें धीमी पड़ती जाएँगी,और बेचैनियाँ बढ़ती जाएँगी
पूर्वार्थ
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
हरित - वसुंधरा।
हरित - वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
तुम देखो या ना देखो, तराजू उसका हर लेन देन पर उठता है ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...