Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2019 · 1 min read

गीत

कहने लगे अब वीर सैनिक देश की सरकार से।
हम नित्य पत्थर क्यों सहें मत रोकिये अब वार से।

हम हाथ में हथियार लेकर खा रहे नित गालियाँ,
मरना भला लगता हमें अब नित्य की इस हार से।

जब खा रही झटके बड़े तब हाथ में पतवार ले,
तुम डूबती इस नाव को कर पार दो मझधार से।

अब हाथ पत्थर ले जिसे लगने लगा वह शेर है,
वह फेंक पत्थर आज जीवित देश के उपकार से।

बढ़ने लगा नित रोग है इस देश में अब द्रोह का,
यह रोग हो बस ठीक केवल मौत के उपचार से।

नित हाल देख जवान का यह बात मानव पूछता,
अब शेर वंचित क्यों रहें इस देश में अधिकार से।

210 Views
You may also like:
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
हुनर बाज
Seema Tuhaina
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
यादें आती हैं
Krishan Singh
मिसाल
Kanchan Khanna
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिलन
Anamika Singh
वो आवाज
Mahendra Rai
.✍️आशियाना✍️
'अशांत' शेखर
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
The moon descended into the lake.
Manisha Manjari
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
'' पथ विचलित हिंदी ''
Dr Meenu Poonia
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
✍️ये मेरा भी वतन✍️
'अशांत' शेखर
Loading...