Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2019 · 1 min read

गीत

कहने लगे अब वीर सैनिक देश की सरकार से।
हम नित्य पत्थर क्यों सहें मत रोकिये अब वार से।

हम हाथ में हथियार लेकर खा रहे नित गालियाँ,
मरना भला लगता हमें अब नित्य की इस हार से।

जब खा रही झटके बड़े तब हाथ में पतवार ले,
तुम डूबती इस नाव को कर पार दो मझधार से।

अब हाथ पत्थर ले जिसे लगने लगा वह शेर है,
वह फेंक पत्थर आज जीवित देश के उपकार से।

बढ़ने लगा नित रोग है इस देश में अब द्रोह का,
यह रोग हो बस ठीक केवल मौत के उपचार से।

नित हाल देख जवान का यह बात मानव पूछता,
अब शेर वंचित क्यों रहें इस देश में अधिकार से।

487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from jyoti jwala
View all
You may also like:
मार्तंड वर्मा का इतिहास
मार्तंड वर्मा का इतिहास
Ajay Shekhavat
💐प्रेम कौतुक-374💐
💐प्रेम कौतुक-374💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
जोशीमठ
जोशीमठ
Dr Archana Gupta
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैं खुश हूँ बिन कार
मैं खुश हूँ बिन कार
Satish Srijan
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे कलाधर
मेरे कलाधर
Dr.Pratibha Prakash
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम अधूरे थे
हम अधूरे थे
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- बाल (Hair)
Writing Challenge- बाल (Hair)
Sahityapedia
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छल
छल
गौरव बाबा
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
आम्बेडकर मेरे मानसिक माँ / MUSAFIR BAITHA
आम्बेडकर मेरे मानसिक माँ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...