Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 26, 2017 · 2 min read

गीत सुनाने निकली हूँ

भारत माँ की बेटी हूँ और गीत सुनाने निकली हूँ,
वीरों की गाथा को जन जन तक पहुँचाने निकली हूँ,
भारत माँ के शान के खातिर सरहद पर तुम ड़टे रहे,
सर्दी गर्मी बरसातों में भी तुम अड़िग वीर बन खड़े रहे,
कोई माँ कहती है कि मेरा लाल गया है सीमा पर,
दुश्मन को हुँकारों से ललकार रहा है सीमा पर,
उनकी देशभक्ति एक सच्ची मिशाल दिखाई देती है,
हर सरहद पर जय हिन्द की एक गूँज सुनाई देती है,
मेरी कलम सतत् चल करके गौरव गाथा लिखती है,
वीरों की अमर शहादत पर ये आँसू आँसू दिखती है,
अड़तालीस पैसठ इकहत्तर के बरस सुहाने बीत गए,
पाक तुम्हारी गुस्ताखी पर कड़ा प्रहार हर बार किए,
वीर शहीदों की यादों में दीप जलाने निकली हूँ,
भारत माँ की बेटी हूँ और गीत सुनाने निकली हूँ .

पाक कभी तुम न भूलो की हिन्द वतन के बेटे हो,
ठण्ड़ी चिंगारी को क्यों हर बार जला तुम देते हो,
तुम्हे गुरूर है उन सांपों पर जिनको दूध पिलाते हो,
समय समय पर उन सांपों से तुम खुद काटे जाते हो,
एक बात बताऊ पाक तुम्हे तुम कान खोलकर सुन लेना,
यदि जीना है तुमको तो जेहादी मंसूबों को छोड़ ही लेना,
वरना वीरों की टोली इस बार लाहौर तक जाएगी,
इतिहास नहीं इस बार भूगोल बदल दी जाएगी,
इन वीरों के शौर्य गान को गर्व समझकर गाती हूँ,
अदना सी मै कलमकार हूँ दिनकर की परिपाटी हूँ,
सच कहती हूँ ऐ वीरों तुम हिन्द वतन की शान हो,
गौरव और अमिट गाथा की तुम ही एक पहचान हो,
हिन्द वतन के वीरों की ललकार सुनाने निकली हूँ,
भारत माँ की बेटी हूँ और गीत सुनाने निकली हूँ.

भारत माता – अमर रहें

1 Like · 171 Views
You may also like:
शासन वही करता है
gurudeenverma198
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
" सच का दिया "
DESH RAJ
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
Loading...