Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

गीत पिरोते जाते हैं

प्यारी आंखों के सपने जब टूटे हों
तब मासूम से दिल भी रोते जाते हैं
आंँखों से जो गिरी अश्क की कुछ बूंदें
हम शायर हैं गीत पिरोते जाते हैं।

जिनके बेरुख होने से मर जाते हम
उनकी यादों में मर मर कर जीते हैं
कौन बताएगा अब उनको यह बोलो
जिनकी यादों में आंँसू हम पीते हैं
उल्फत की दुनियां का ये काला सच है।
जिसे गीत कहकर हम गाते जाते हैं।

एक तुम्हारे प्रेम का आंँचल था केवल
जिसको गगन मान हम सूर्य बने बैठे।
एक तुम्हारी दिल की जमीं मयस्सर थी।
जहां दीवाने तुमको खुदा चुने बैठे।
आज बनी हो याद मेरी आंँखों के तुम।
जिसे याद कर हम बस रोते जाते हैं।।

आकर देखो हाल मेरी क्या फिकर तुम्हें
मयकद होकर आज भटकता फिरता हूंँ।
कौन संँभालेगा हमको यह भी सोचो
पल पल तेरी याद में गिरता रहता हूंँ।।
मुझको को अब भी शुबहा है आओगे
इसीलिए हम नींद उड़ाते जाते हैं ।

कोई मेरी मांँग नहीं इस बस्ती से
मुझको मेरी जां दे दो बस काफ़ी है।
मेरी जान को चांँद कहो है ठीक मगर
मेरी जान को जान कहो गुस्ताख़ी है।
उन्हें फिकर कुछ रही नहीं लेकिन फिर भी
हम तो अपना दिल बिछाते जाते हैं।।

आज किसी ने जुर्रत कर डाला देखो
आज मेरी जां को वो भी जां कहता है।
आज बिखरता हूंँ दीपक उन गलियों में
मेरी जान जहांँ बनके चंँदा रहता है।
आज चूम लूंँ मिट्टी जिसपर पांँव धरे
मेरे गीत के रंगत आते जाते हैं।

दीपक झा “रुद्रा”

1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
Sonam Puneet Dubey
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
सोशल मीडिया का दौर
सोशल मीडिया का दौर
Shekhar Chandra Mitra
बढ़ती तपीस
बढ़ती तपीस
शेखर सिंह
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
25. *पलभर में*
25. *पलभर में*
Dr Shweta sood
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2850.*पूर्णिका*
2850.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...