Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2018 · 1 min read

गीतों में मिल जाउंगी

तन्हाई भी तनहा होकर
आंसू आंखों में भर-भरकर
रो पड़ती होगी बरबस ही
सूनेपन से आहत होकर

टूट-टूटकर कतरा-कतरा
और सिसकते होंगे सपने
इस नीरवता का हासिल क्या
जो हैं अपने ..कितने अपने..

धुंधले मन के जुगनू बेदम
साहस कर उठते गिर जाते
घोर अंधेरे इन रस्तों पर
मरने तक को चलते जाते

ऐसा जीवन कब इच्छित था
कैसे जग का माली सींचे
ऐसा कैसा फेरा जिसमें
दुख ही आते दुख के पीछे

मृत्योत्सव इससे तो सुंदर
हर लेता हर दुख पीड़ा को
मृत्यु सुलाती गोदी अपनी
कितना सुख मिलता तब उर को

सुनो..जगत के जीव चराचर
दुख दुविधा से मुक्ति पाकर
जब सो जाऊं मैं चिर निद्रा
शोक नहीं करना तिल भर भी

तब खुशियों के ढोल बजाना
और प्रेम का रस बिखराना
तब सब करना जो इच्छित था
तनिक नहीं तुम अश्रु बहाना

अग्नि समर्पित होकर मैं तब
पंचतत्व मैं मिल जाउंगी
मुझे ढूंढना चाहो जब तुम
मैं गीतों में मिल जाउंगी

©
अंकिता कुलश्रेष्ठ

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऋतु बसंत
ऋतु बसंत
Karuna Goswami
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
लगाव
लगाव
Arvina
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
चाँद
चाँद
ओंकार मिश्र
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
उलझन से जुझनें की शक्ति रखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
डूबे किश्ती तो
डूबे किश्ती तो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*वह अनाथ चिड़िया*
*वह अनाथ चिड़िया*
Mukta Rashmi
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
gurudeenverma198
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
दास्ताने-कुर्ता पैजामा [ व्यंग्य ]
दास्ताने-कुर्ता पैजामा [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
Loading...