Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

गीतिका

गीतिका
शनै: से पुष्प फिर से मुस्कुराया।
हवा ने फिर नया इक राग गाया।

मधुर मुख माधुरी मोहित किये थी।
निशाकर देख अतिशय खिलखिलाया।

भ्रमर भ्रमवश समझ कर फूल देखो।
वदन की गंध पर ही मंडराया।

वसंती वेश पीले शर्म से हैं।
उसी संसर्ग से महकी है’ काया।

सुखद दर्शन ये’ दुर्लभ भी बहुत है।
उतर भू पर शरद का चन्द्र आया।

प्रिये! है प्रेम का पथ ये कठिन पर।
अडिग विश्वास से लेकिन निभाया।

‘इषुप्रिय’ आज मत रोको जरा भी।
करो रसपान दृग ने जो पिलाया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
सिपाही
सिपाही
Buddha Prakash
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नशा इश्क़ का
नशा इश्क़ का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ छुट्टी आहे....!
■ छुट्टी आहे....!
*Author प्रणय प्रभात*
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
जंगल के दावेदार
जंगल के दावेदार
Shekhar Chandra Mitra
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
वक़्त से
वक़्त से
Dr fauzia Naseem shad
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
श्राद्ध ही रिश्तें, सिच रहा
Anil chobisa
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
Manisha Manjari
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
बारिश
बारिश
Saraswati Bajpai
माहिर पत्थरबाज है (गीत)
माहिर पत्थरबाज है (गीत)
Ravi Prakash
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...