Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2016 · 1 min read

गीतिका- किसको किसको प्यार लिखें

गीतिका- किसको किसको प्यार लिखें
००००००००००००००००००००००००००००००००

कितनों ने दिल सौंप दिया है किसको किसको प्यार लिखें
पर चाहत के बदले बोलो कैसे हम इनकार लिखें

लिखने को तो लिख डालेंगे एक नया इतिहास मगर
तुम जो साथ नहीं आये तो दुनिया है बेकार लिखें

शादी है जीवन की गाड़ी हम तो अक्सर लिखते थे
लेकिन अब जब भी लिखते हैं जाने क्यों मझधार लिखें

कविता तो सौतन है उनकी कविता से वे जलतीं हैं
लेकिन हमको लत है ऐसी कविता ही हर बार लिखें

बहुत लिखें हैं उल्टा-सीधा सच है पर ‘आकाश’ यही
हे पत्नी तुम पूजनीय को जीवन का आधार लिखें

– आकाश महेशपुरी

490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो सबके साथ आ रही थी
वो सबके साथ आ रही थी
Keshav kishor Kumar
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
दौर - ए - कश्मकश
दौर - ए - कश्मकश
Shyam Sundar Subramanian
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
Neeraj Agarwal
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
अब तू किसे दोष देती है
अब तू किसे दोष देती है
gurudeenverma198
*टमाटर (बाल कविता)*
*टमाटर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
Loading...