Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

*गीता – सार* (9 दोहे)

गीता – सार (9 दोहे)

(1)
एक महाभारत छिड़ा ,सबके मन में आम
कृष्ण जिसे भी मिल गए ,वह जीवन अभिराम
(2)
मृत्यु सुनिश्चित जानिए ,जीवन दो क्षण मात्र
शिक्षा देते कृष्ण यह , अर्जुन देखो छात्र
(3)
जाने कितने जन्म से , चलता यह संसार
जन्म-मरण क्रम चल रहा ,गीता के अनुसार
(4)
दाँव – पेंच सारे चलो , नीति ज्ञान से युक्त
लोभ मोह मद से मगर ,रखना भीतर मुक्त
(5)
प्रभु के भीतर बस रहा ,सकल जगत साकार
देखो यह श्रीकृष्ण का , विश्वरूप – विस्तार
(6)
झूठे जग में कृष्ण का ,बस उपदेश यथार्थ
तर जाता वह जो बना , सुनने वाला पार्थ
(7)
असमंजस में जग पड़ा ,किंकर्तव्यविमूढ़
गीता कहती कर्म – पथ , पर हो जा आरूढ़
(8 )
भय से थरथर काँपते ,मनुज कहो क्यों गात
करो युद्ध निर्भय बनो , तभी बनेगी बात
(9)
क्या जीवन क्या मृत्यु है ,दो क्षण का यह मेल
युगों – युगों से चल रहा ,अविरल इन का खेल
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””‘
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
वह
वह
Lalit Singh thakur
दीवार में दरार
दीवार में दरार
VINOD CHAUHAN
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े
Paras Nath Jha
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
Ram Krishan Rastogi
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
■ सुन भी लो...!!
■ सुन भी लो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
*सा रे गा मा पा धा नि सा*
*सा रे गा मा पा धा नि सा*
sudhir kumar
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विश्वेश्वर महादेव
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...