Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

गांव में छुट्टियां

✍️ गांव में छुट्टियां
अब के बरस दादू के संग
छुट्टी सभी बिताना …
भरी दुपहरी चढ़ें नीम पर
गांव की सैर कराना…
पक्षियों को जब डालें दाना
चिड़िया चींचीं चहचहाती …
कबूतर करता गुटर गूं
कोयल मीठे गीत सुनाती…
मोर नाचे पंख फैलाए
छोटी गिलहरी भी बतियाती…
सुबह सवेरे जाएं खेत पर
पिएं गुड़ छाछ लोटा भर कर …
ताऊजी लाएं दूध काढ़ कर
कच्चा दूध पी जाएं गट गट…
कद्दू की सब्जी के संग में
खट्टी मीठी कैरी की लौंजी …
पूरी, गोल मटोल है फूली
बनाती चाची,अम्मा और भौजी …
दादी बिलौती दही छाछ
रोटी देती मक्खन वाली …
दादू के संग जाएं बाग में
चकित देख,आमों की डाली …
खीर बनाती मेवों वाली
खाते भर कर खूब कटोरी …
लेकिन डैडा को भाती
बस आलू भरी कचौरी …
सांझ ढले, चांदनी रात में
खेलें छुपन छुपाई …
अपनी बारी आने को थी
दादी ने आवाज लगाई …
ठंडे ठंडे बिस्तर छत पर
बच्चों को खूब आनंद आता …
बड़े भैया, दीदी, बुआ
फिर सुनाएंगे भूतों की गाथा …
हंसी खुशी से गया महीना
पता नहीं चल पाता …
बेटा बेटी भी होते उदास
काश!
एक दिन और बढ़ जाता…
बीता महीना, वापिस आने का
करते हैं फिर वादा …
अगले बरस की राह हैं तकते
बूढ़े नानूनानी, दादी दादा!!
मिल गया जैसे टॉनिक
और जीने का सहारा …
अब तो बीत जाएगा
मीठी यादों में, पूरा साल हमारा ………🙂
__ मनु वाशिष्ठ

2 Likes · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
"नहीं देखने हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr .Shweta sood 'Madhu'
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
■ #मुक्तक
■ #मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...