Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

घृणा का हर ज़गह साया पड़ा है ।
हवाओं में जहर का जायका है ।

बिना आधार ही सब बोलते हैं,
‘पते की बात’ का किसको पता है ?

पलटकर देखिए तारीख के पन्ने,
ज़माने ने ज़माने को सहा है ।

बसी घर में पुरानी एक पीड़ा,
नया इक दर्द फिर से आ गया है ।

मचाते शोर वन में सिर्फ़ गीदड़,
न जाने शेर किस बिल में छिपा है ?
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
3 Likes · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
नेताम आर सी
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
बड़ी अदा से बसा है शहर बनारस का
बड़ी अदा से बसा है शहर बनारस का
Shweta Soni
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
..........जिंदगी.........
..........जिंदगी.........
Surya Barman
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
बांदरो
बांदरो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
People will chase you in 3 conditions
People will chase you in 3 conditions
पूर्वार्थ
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
प्रकृति की सुंदरता देख पाओगे
प्रकृति की सुंदरता देख पाओगे
Sonam Puneet Dubey
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
कवि दीपक बवेजा
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
🙅आज का ज्ञान🙅
🙅आज का ज्ञान🙅
*प्रणय प्रभात*
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
"खुश होने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...