Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

दिल ये जाके कहाँ बसा मेरा ।
कोई देता नहीं पता मेरा ।

लोग आते हैं, चाय पीते हैं,
है नहीं जिनसे राब्ता मेरा ।

यार मिलते हैं तो रकीबों-से,
है नहीं कोई आशना मेरा ।

काध्यमंचों से या नशिस्तों से,
हर तरह नाम है कटा मेरा ।

नाकि हिन्दू से न मुसलमाँ से,
आदमी से है वास्ता मेरा ।

साँस में राम जोड़ते चलिए,
सिर्फ़ इतना है मशविरा मेरा ।
०००
__ ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
4 Likes · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
❤️
❤️
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
*Author प्रणय प्रभात*
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
क्योंकि मैं किसान हूँ।
क्योंकि मैं किसान हूँ।
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
इतनी सी बस दुआ है
इतनी सी बस दुआ है
Dr fauzia Naseem shad
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
Swami Ganganiya
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
Time
Time
Aisha Mohan
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
"सच्ची मोहब्बत के बगैर"
Dr. Kishan tandon kranti
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
आशा की किरण
आशा की किरण
Neeraj Agarwal
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
Loading...