Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

हाथ बाकी हैं कान बाकी है ।
पाँव चलते हैं जान बाकी है ।

गाते-गाते वो मर गया लेकिन,
सुर भी बाकी है तान बाकी है ।

माँस है ख़ाक,जल चुकी हड्डी,
बाद इसके भी जान बाकी है ।

जल चुका यद्यपि नगर पूरा,
प्यार का पर मकान बाकी है ।

तोड़ा-फोड़ा गया बहुत,लेकिन
ज्यूँ का त्यूँ ये ज़हान बाकी है ।

जीतकर एक आ गया लेकिन,
दूसरे का रुझान बाकी है ।

शायरी खो गई लतीफ़ों में,
गूँगी , बहरी ज़ुबान बाकी है ।

मायके आ के मर गई बेटी,
सासरे का निशान बाकी है ।

यज्ञ में लुट गया शहर पूरा,
फिर भी कहते हो दान बाकी है ।

आइए शौक से मेरे घर पै,
चाय बाकी है पान बाकी है ।

मैं खड़ा हूँ चुनाव-ए-उल्फ़त में,
तेरा आना रुझान बाकी है ।

खो गया सत्य आज ‘ईश्वर’ का,
भक्त की फिर भी शान बाकी है ।

—— ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
2 Likes · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
नदियां
नदियां
manjula chauhan
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"एक नाविक सा"
Dr. Kishan tandon kranti
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
Dr.Khedu Bharti
अंधभक्ति
अंधभक्ति
मनोज कर्ण
संवेदना का कवि
संवेदना का कवि
Shweta Soni
जनता के आगे बीन बजाना ठीक नहीं है
जनता के आगे बीन बजाना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
मेरी एजुकेशन शायरी
मेरी एजुकेशन शायरी
Ms.Ankit Halke jha
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
Loading...