Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

ज़िन्दगी अब अजाब की सी है ।
खाली बोतल शराब की सी है ।

दर्द लिक्खा है हर सफे जिसके,
ज़िन्दगी उस किताब की सी है ।

अपनी हालत का ज़िक्र क्या कीजै ?
एक बिगड़े नवाब की सी है ।

लब हैं नाजुक , महक रहीं आँखें,
उसकी सूरत गुलाब की सी है ।

है अँधेरा , कभी उजाला भी,
रौशनी माहताब की सी है ।

—- ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
3 Likes · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
पिता
Dr Manju Saini
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
" न जाने क्या है जीवन में "
Chunnu Lal Gupta
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
पूर्वार्थ
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
Dr fauzia Naseem shad
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
कुछ तो होता है ना, जब प्यार होता है
Anil chobisa
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
2615.पूर्णिका
2615.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरे मौन का मान कीजिए महोदय,
मेरे मौन का मान कीजिए महोदय,
शेखर सिंह
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...