Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

तुम हो तो अब सब सुंदर है ।
घर लगता है , अपना घर है ।

पायल भरकर ममता छलके,
बिछड़ी-सा लालित्य सुगर है ।

बिंदिया-सा व्यवहार दमकता,
कुमकुम-सा आदर्श प्रखर है ।

प्यार खनकता चूड़ी जैसा,
अंदर भी है और बाहर है ।

मधुर लगे बर्तन की खनखन,
झुमके की लटकन सुंदर है ।

सूत्र तेरे मंगल कारक हैं,
जिह्वा पर केवल आदर है ।

“ईश्वर” का ‘लक्ष्मी’ से नाता,
प्रलयकाल से अजर-अमर है ।
००००००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
3 Likes · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
Thought
Thought
Jyoti Khari
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
मातृत्व दिवस खास है,
मातृत्व दिवस खास है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
*अहिल्या (कुंडलिया)*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
💐 Prodigy Love-4💐
💐 Prodigy Love-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सात सवाल
सात सवाल
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
Shekhar Chandra Mitra
.        ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
. ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
Loading...