Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल

कभी कोई निराशा आ सताए तो करें हम क्या
करेगा रब नहीं वश में हमारे जो करें हम क्या/१

करें हम कोशिशें हरपल हमारे हाथ में जो हैं
जिन्हें कर हम नहीं सकते भुला दें वो करें हम क्या/२

समय की धूप जानो वक़्त पर ही छाँव देती है
समय पहले नज़ारा और भूलें रो करें हम क्या/३

आर. एस. ‘प्रीतम’

1 Like · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*जिन्होंने बैंक से कर्जे को, लेकर फिर न लौटाया ( हिंदी गजल/
*जिन्होंने बैंक से कर्जे को, लेकर फिर न लौटाया ( हिंदी गजल/
Ravi Prakash
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल  ! दोनों ही स्थितियों में
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में
Tarun Singh Pawar
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
भारत मे शिक्षा
भारत मे शिक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
"चालाकी"
Ekta chitrangini
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-225💐
💐प्रेम कौतुक-225💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
Loading...