Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल

महक उठा मेरा मन आज इस खबर सें।
तुम गुज़रोगे आज इस रहगुज़र से।

धड़कने लगा है अभी से दिल इस कदर।
क्या होगा जब मिलेंगी नज़र तेरी इस नज़र से।

रोज़ होते देंख इक नया हादसा।
सहम उठता है दिल उस मंज़र से।

रहना चाहते है कुछ वक्त शांत हम भी।
घबरा उठता है जी अब इस कहर से।

दें ग़र खुदा हर पल साथ अपना।
बच जाएं हम भी बुरी इस नज़र सें।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
Expectation is the
Expectation is the
Shyam Sundar Subramanian
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
बचपन
बचपन
संजय कुमार संजू
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भक्त कवि श्रीजयदेव
भक्त कवि श्रीजयदेव
Pravesh Shinde
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि  डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
Ravi Prakash
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
#आप_भी_बनिए_मददगार
#आप_भी_बनिए_मददगार
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
शरद पूर्णिमा का चांद
शरद पूर्णिमा का चांद
Mukesh Kumar Sonkar
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
Loading...