Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2016 · 1 min read

“ग़ज़ल”

मेरे दिल को अब कोई भाता नहीं है
कोई भी तो वादा निभाता नहीं है
जरा देख आओ गरीबों के घर में
न कहना की अब कोई भूखा नहीं है
कसम है ख़ुदा की बताओ तुम्हीं,क्या
लहू से चमन मैंने सींचा नहीं है
मैं इक़ पल में बर्बाद दुश्मन को कर दूँ
मगर हिंसा बापू से सीखा नहीं है
जिये जा रहे हैं सभी शौक़ से यूँ
क़ि जैसे कभी मौत आना नहीं है
अभी तुम हो आये, न जाओ अभी तुम
अभी तुमको जी भर के देखा नहीं है
बुरा कैसे शाबान कह दूँ किसी को
क़ि मुझमें ही जब कुछ भी अच्छा नहीं है

1 Like · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
"खिलौने"
Dr Meenu Poonia
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
आपकी राय मायने रखती है
आपकी राय मायने रखती है
Shekhar Chandra Mitra
फितरते फतह
फितरते फतह
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
■ अहसास
■ अहसास
*Author प्रणय प्रभात*
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
2565.पूर्णिका
2565.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
Shiva Awasthi
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुनिया जमाने में
दुनिया जमाने में
manjula chauhan
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
नया साल
नया साल
umesh mehra
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
Loading...