Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

आज सारे हिसाब कर दूंगा।
तुझको मैं लाजवाब कर दूंगा।
🌹
दूध का दूध पानी का पानी।
झूठ सब बेनकाब कर दूंगा।
🌷
जो भी रखते हैं नफरतें उनको।
पेश उनको गुलाब कर दूंगा।
🌷
साजिशें जो करेंगे मेरे खिलाफ।
उनका खाना खराब कर दूंगा।
🌷
ऐसी तासीर उसके होठों की।
छू लिया तो शराब कर दूंगा।
🌷
जब मिलोगे सुकून से मुझसे।
खूब रंगी शबाब कर दूंगा।
🌷
दौलत ए इश्क किसको बख्शूंगा।
इसका अब इंतिखाब कर दूंगा।
🌷
सुर्ख रू आप हों ज़माने में।
काम ऐसे जनाब कर दूंगा।
🌷
सगीर मैं उसको पढ़ सकूं हरदम।
उनका चेहरा किताब कर दूंगा।

DR सगीर अहमद सिद्दीकी खैरा बाजार बहराइच यूपी

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
जब रंग हजारों फैले थे,उसके कपड़े मटमैले थे।
जब रंग हजारों फैले थे,उसके कपड़े मटमैले थे।
पूर्वार्थ
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मतदान से, हर संकट जायेगा;
मतदान से, हर संकट जायेगा;
पंकज कुमार कर्ण
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*प्रणय प्रभात*
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सेवा जोहार
सेवा जोहार
नेताम आर सी
मतवाला मन
मतवाला मन
Dr. Rajeev Jain
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...