Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2016 · 1 min read

ग़ज़ल रचनाएँ

अच्छे कर्मो से ही तेरे घर में बेटी आती है,,,,,,,,,,
तेरे सूने घर में खुशियाँ बस बेटी ही लाती है ।।।।।।
उसके कारण ही तो तूने अपना हर गम भूला है,,,,,
तेरी बाहोँ में चुपके से वो जब भी मुस्काती है ।।।।।।।
शादी होके तेरी बेटी देश पिया के जाएगी,,,,,,,,
तेरे सीने में बिछड़न का ऐसा दर्द जगाती है ।।।।।।।।
कन्यादान करेगा कैसे हिम्मत तेरी टूटेगी,,,,,,,,,,
माँ बापो के दिल की उस दिन धड़कन भी रुक जाती है।।।।।।।।
तुझको भी करना है ये सब चाहे तू रोले कितना,,,,,,,
तू जी भर के देख उसे जो पल दो पल का साथी है ।।।।।।।।।।।
देके खुशियाँ हाथो मे बेटी भेजी है दूजे घर ,,,,,,,,
लेकिन तेरी यादे बेटी हमको रोज़ सताती है ।।।।।।।।।

373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
Rekha khichi
इक बार वही फिर बारिश हो
इक बार वही फिर बारिश हो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
🌱कर्तव्य बोध🌱
🌱कर्तव्य बोध🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वो अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
गुमनाम 'बाबा'
यथार्थ में …
यथार्थ में …
sushil sarna
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
!!!! कब होगा फैसला मेरा हक़ में !!!!
!!!! कब होगा फैसला मेरा हक़ में !!!!
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब तो तुम्हारी मांग में सिंदूर भरने के बाद ही,
अब तो तुम्हारी मांग में सिंदूर भरने के बाद ही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...