Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2022 · 1 min read

ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो….!

#ग़ज़ल
■ ये दीवार गिराने दो….!!
【प्रणय प्रभात 】

★ अपने कद की लंबाई की बातें छोड़ो जाने दो।
ख़ुद के पैरों में सर होगा सूरज सर पे आने दो।।

★ रात के काले अंधियारों से लोहा लेगा एक दिया।
शाम ढले तक और ज़रा इस सूरज को इतराने दो।।

★ हिन्दू है वो एक परिंदा जो गुम्बद पर बैठा है।
मुसलमान हो जाएगा मीनारों तक उड़ जाने दो।।

★ सुख-दुःख आँसू और हँसी का आना-जाना जारी हो।
मुझको छोटे से आँगन की ये दीवार गिराने दो।।

★ गम, गुस्सा, शिकवा हो चाहे नफ़रत जैसी शै कोई।
दिल मे जो कुछ भरा पड़ा है आँखों से बह जाने दो।।

★ रुसवाई से, तन्हाई से दिल वालों का नाता है।।
जैसे भी जिसका दिल बहल उसको दिल बहलाने दो।।

★ मयख़ाने में, तहख़ाने में, दूर किसी बुतख़ाने में।
जो भी चाहे जैसी चाहे दुनिया उसे बसाने दो।।

【आज #इंदौर_समाचार में प्रकाशित ग़ज़ल】

Language: Hindi
1 Like · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
जन्मदिन तुम्हारा!
जन्मदिन तुम्हारा!
bhandari lokesh
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
तुम अपने धुन पर नाचो
तुम अपने धुन पर नाचो
DrLakshman Jha Parimal
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
होलिका दहन कथा
होलिका दहन कथा
विजय कुमार अग्रवाल
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
Anjana banda
#देश_उठाए_मांग
#देश_उठाए_मांग
*प्रणय प्रभात*
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
एक ख़्वाहिश
एक ख़्वाहिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
आँगन पट गए (गीतिका )
आँगन पट गए (गीतिका )
Ravi Prakash
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
Loading...