Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (मौका)

ग़ज़ल (मौका)

गजब दुनिया बनाई है, गजब हैं लोग दुनिया के
मुलायम मलमली बिस्तर में अक्सर बह नहीं सोते

यहाँ हर रोज सपने क्यों, दम अपना तोड़ देते हैं
नहीं है पास में बिस्तर ,बह नींदें चैन की सोते

किसी के पास फुर्सत है, फुर्सत ही रहा करती
इच्छा है कुछ करने की, पर मौके ही नहीं होते

जिसे मौका दिया हमने , कुछ न कुछ करेगा बह
किया कुछ भी नहीं ,किन्तु सपने रोज बह बोते

आज रोता नहीं है कोई भी किसी और के लिए
सब अपनी अपनी किस्मत को ले लेकर खूब रोते

ग़ज़ल (मौका)
मदन मोहन सक्सेना

158 Views
You may also like:
*संकल्प (कहानी)*
Ravi Prakash
सोबन का यह अर्थ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
चालीसा
Anurag pandey
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
^^बहरूपिये लोग^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
✍️ इंसान सिखता जरूर है...!
'अशांत' शेखर
रूठे रूठे से हुजूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुद्धिजीवियों पर हमले
Shekhar Chandra Mitra
ऐनक
Buddha Prakash
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
"भीमसार"
Dushyant Kumar
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati
मुहावरे_गोलमाल_नामा
Anita Sharma
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
कब तक इंतजार तेरा हम करते
gurudeenverma198
इंतजार की हद
shabina. Naaz
बेटियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हरतालिका तीज
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हमसफ़र
Anamika Singh
चांदनी की चादर।
Taj Mohammad
मेंहदी दा बूटा
Kaur Surinder
वियोग
पीयूष धामी
Loading...