Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– बड़े चर्चे हैं राहों में !!

ग़ज़ल –: बड़े चर्चे हैं राहों मे !!

चहरा चाँद सा रोशन रौनक इन फिजाओं मे !
तेरी दिलकस अदाओं के बड़े चर्चे हैं राहों में !!

नशा ये मय का है या फिर रंगत हुस्न ने लाई !
दुनिया गुम सी लगती है नशीली इन निगाहों में !!

नहीं कोई चाह बाकी है ना तो परवाह जन्नत की !
आसरा मिल अगर जाये जुल्फों की पनाहों में !!

मुकम्मल हो ना हो गुल को बुलबुल की चहक प्यारी !
तराने छेड़ ही जाती बहकी इन हवाओं मे !!

कर के ईबादत लाख मन्नत हमनें भी माँगी !
जन्नत है कहीं शायद बस तेरी ही बाहों में !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

454 Views
You may also like:
तिरंगा
आकाश महेशपुरी
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
चरैवेति चरैवेति का संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
पिता
Neha Sharma
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
■ आलेख / अनुभूत और अभोव्यक्त
प्रणय प्रभात
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
ये चुनी हुई चुप्पियां
Shekhar Chandra Mitra
माँ
shabina. Naaz
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
पंडित जी
आकांक्षा राय
आदर्श पिता
Sahil
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
ज़िंदगी से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुरज और चाँद
Anamika Singh
फितरत
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
हमारे पास करने को दो ही काम है।
Taj Mohammad
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
Loading...