Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– बड़े चर्चे हैं राहों में !!

ग़ज़ल –: बड़े चर्चे हैं राहों मे !!

चहरा चाँद सा रोशन रौनक इन फिजाओं मे !
तेरी दिलकस अदाओं के बड़े चर्चे हैं राहों में !!

नशा ये मय का है या फिर रंगत हुस्न ने लाई !
दुनिया गुम सी लगती है नशीली इन निगाहों में !!

नहीं कोई चाह बाकी है ना तो परवाह जन्नत की !
आसरा मिल अगर जाये जुल्फों की पनाहों में !!

मुकम्मल हो ना हो गुल को बुलबुल की चहक प्यारी !
तराने छेड़ ही जाती बहकी इन हवाओं मे !!

कर के ईबादत लाख मन्नत हमनें भी माँगी !
जन्नत है कहीं शायद बस तेरी ही बाहों में !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी दोहा लाड़ली
हिन्दी दोहा लाड़ली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
gurudeenverma198
सफल सिद्धान्त
सफल सिद्धान्त
Dr. Kishan tandon kranti
याद
याद
Kanchan Khanna
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
♥️
♥️
Vandna thakur
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
माँ तेरी याद
माँ तेरी याद
Dr fauzia Naseem shad
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ लघु-कविता-
■ लघु-कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
सत्य कुमार प्रेमी
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
Loading...