Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें

न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें,
कि वो उम्र भर मरता रहा किसी के साथ जीने के लिए।

बोझिल क़दमों से चढ़ी होंगी मयकदे की सीढ़ियाँ उसने,
ख़ुशी से भला कौन जाता है मयखाने में पीने के लिए।

कतरा-कतरा सा सूख गया वो एक इसी आरज़ू में,
ये धरती तरस रही हो जैसे आसमाँ के पसीने के लिए।

वक्त अपनी मज़ाक में उकेरता रहा झुर्रियाँ उस पर,
और वो इन्तज़ार में बैठा रहा उन पर पैबंद सीने के लिए।

बहुत सख्त है, बहुत नरम है चाहतों का ये राज‌ यहाँ,
इसमें जुनून से मरना पड़ता है कुछ ही पल जीने के लिए।

©✍🏻 स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507,
9950538424,
anilk1604@gmail.com

2 Likes · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
■नया दौर, नई नस्ल■
■नया दौर, नई नस्ल■
*Author प्रणय प्रभात*
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
"साये"
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
2848.*पूर्णिका*
2848.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
Shweta Soni
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
मुस्की दे प्रेमानुकरण कर लेता हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
Loading...