Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर

इश्क़ के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर,
ना जीत की ललक जिसे ना हार की पीर।

अंगारों पर चल सके जो हो कर नंगें पैर,
मिटने को तैयार रहे त्याग सके जागीर।

सौ दफा अन्तर्द्वन्द्व होंगें प्यार-ओ-फ़र्ज में,
बेअसर होंगी तमाम उल्फ़त की तदबीर।

गैर होंगें, अपने होंगें, प्रेम-पथ के बीच खड़े,
कठिन होंगी राहें लड़ना होगा बिन शमशीर।

इम्तिहान लेगा ज़माना हर क़दम पे प्यार के,
नहीं सूझेगी ज़हन में पार पाने की तदबीर।

मोहताज रहना होगा दीदार-ए-यार को,
लाँघनी होगी कई दफा इस जग की प्राचीर।

रुसवाईयों का बसेरा होगा कू-ए-यार में,
वहीं जाना होगा निहारने यार की तस्वीर।

प्रेम पथिक ना विचलित होते झंझावातों से,
पहाड़ खोद के रस्ते बनाना है इनकी तासीर।

बलिष्ठ प्यार निड़र रहता है सब हालातों में ‘अनिल’,
अपने दम पे लिखी है इसने जाने कितनी तहरीर।

(पीर = दर्द, वेदना, पीड़ा, कष्ट, तकलीफ़)
(शमशीर = तलवार, खड्ग)
(प्राचीर = ऊँची तथा पक्की मजबूत दीवार)
(कू-ए-यार = यार, प्रियतम की गली)
(तदबीर =युक्ति, उपाय, तरकीब)
(तासीर = प्रभाव, असर)
(तहरीर = लिखा हुआ प्रमाणपत्र, लिखी हुई बात)

©✍️ स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507
9950538424
anilk1604@gmail.com

1 Like · 322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
"हठी"
Dr. Kishan tandon kranti
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
तलाक़ का जश्न…
तलाक़ का जश्न…
Anand Kumar
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
मातृत्व
मातृत्व
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
Raju Gajbhiye
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
(6) सूने मंदिर के दीपक की लौ
(6) सूने मंदिर के दीपक की लौ
Kishore Nigam
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
Loading...