Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है

आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है,
इस दिल की धड़कनों में ये स्पन्दन सा क्यूँ है।

अपनी मुलाकातों की ये पहली ख्वाहिश तो नहीं,
बरसों पुरानी बातों-यादों में फ़िर नयापन सा क्यूँ है।

अपने मिलन की चाहत में जब प्यार का जादू सा है छाया,
तो ज़माने के ख्यालातों में उमंग का क्रन्दन सा क्यूँ है।

एक-दूजे संग ज़िन्दगी में ज़माने की उधेड़-बुन है बस,
रवायतों की दुनिया में खलिश का अंधापन सा क्यूँ है।

ज़माना तमन्ना तो रखता है प्यार से रहने की सबसे,
औरों को वही देने में फ़िर उसमें खालीपन सा क्यूँ है।

अपने मिलने-जुलने को अपनी दुनिया बनाएं हम ‘अनिल’,
सपनों के घर सजाने में अर्ध घुला चन्दन सा क्यूँ है।

(क्रन्दन = विलाप, रोना, आव्हान, ललकारना)
(तमन्ना = कामना, आकांक्षा)
(खलिश = कसक, टीस, चिन्ता, फिक्र)

©✍️ स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507
9950538424
anilk1604@gmail.com

1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-389💐
💐प्रेम कौतुक-389💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
मुक्तक
मुक्तक
Arvind trivedi
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुमार
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
गीतिका
गीतिका "बचाने कौन आएगा"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
दुःख के संसार में
दुःख के संसार में
Buddha Prakash
कोई नई ना बात है।
कोई नई ना बात है।
Dushyant Kumar
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कब तक यही कहे
कब तक यही कहे
मानक लाल मनु
#गीत :--
#गीत :--
*Author प्रणय प्रभात*
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...