Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– तुमने जीवन उपहार दिया !!

ग़ज़ल :-तुमने जीवन उपहार दिया !!
गज़लकार :- अनुज तिवारी ” इन्दवार ”

तहस-नहस कर डाला था दिल को उठते तूफानो ने !
समा जलाकर इस दिल पे तूने मुझपे उपकार किया !!

मै डूब रहा मझधारे पे मुश्किल से भरे किनारे थे !
आगोश मे भर के मुझको अपनी बाँहों का हार दिया !!

दौलत की अंधी ये दुनिया यहाँ किसी की सगी नही !
तोड़ जमाने की रस्मे तुमने मुझसे दीदार किया !!

साँस मे हिम्मत भर कर उम्मीद जगा दी जीने की !
जब तड़फ रहा था जीने को , तुमने जीवन उपहार दिया !!

2 Likes · 667 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Sukoon
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...