Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– तुमने जीवन उपहार दिया !!

ग़ज़ल :-तुमने जीवन उपहार दिया !!
गज़लकार :- अनुज तिवारी ” इन्दवार ”

तहस-नहस कर डाला था दिल को उठते तूफानो ने !
समा जलाकर इस दिल पे तूने मुझपे उपकार किया !!

मै डूब रहा मझधारे पे मुश्किल से भरे किनारे थे !
आगोश मे भर के मुझको अपनी बाँहों का हार दिया !!

दौलत की अंधी ये दुनिया यहाँ किसी की सगी नही !
तोड़ जमाने की रस्मे तुमने मुझसे दीदार किया !!

साँस मे हिम्मत भर कर उम्मीद जगा दी जीने की !
जब तड़फ रहा था जीने को , तुमने जीवन उपहार दिया !!

2 Likes · 481 Views
You may also like:
हम-सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मरने के बाद।
Taj Mohammad
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अशोक महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राष्ट्रकवि
Shekhar Chandra Mitra
*आर्य समाज (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मजदूर भाग -दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“ वसुधेव कुटुम्बकंम ”
DrLakshman Jha Parimal
नूर का चेहरा सरापा नूर बैठी है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
समय का महत्व ।
Nishant prakhar
अब वो किसी और से इश्क़ लड़ाती हैं
Writer_ermkumar
चांदनी चकोर सा रिश्ता तेरा मेरा
कवि दीपक बवेजा
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दिल में चुभती हुई
Dr fauzia Naseem shad
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
काश!
Rashmi Sanjay
बड़े दिनों के बाद मिले हो
Kaur Surinder
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
चाँद और जुगनू
Abhishek prabal
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️संस्कृती के कठोर रक्षाकवच...
'अशांत' शेखर
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
Loading...