Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– जब तक हिम्मत है हार नहीँ मानूंगा !!

ग़ज़ल :– जब तक हिम्मत है हार नहीं मानूंगा !!

इक वार तो क्या ….सौ वार नहीं मानूंगा
जबतक हिम्मत है मै हार नहीं मानूँग!!

गिरूं चाहे हर वार सम्हलना भी मुश्किल हो !
अपनी कोशिश को बेकार नही मानूंगा !!

दुनियां चाहे तो मुझको सौ बार मिटादे !
कभी इरादों से अपने प्रतिकार नही मानूंगा !!

भवन बनाती बुनियादें छोटे-छोटे पत्थर की !
ठोकर को अमिट प्रयासों की मार नहीं मानूंगा !!

मैखाने में बेख़ुद होकर लोग पड़े रहते हैं !
कहलें कुछ भी लोग उसे घर-बार नहीं मानूंगा !!

गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

4 Comments · 555 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anuj Tiwari
View all
You may also like:
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
फौजी जवान
फौजी जवान
Satish Srijan
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
घंटा हिलाने वाली कौमें
घंटा हिलाने वाली कौमें
Shekhar Chandra Mitra
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
हार फिर होती नहीं...
हार फिर होती नहीं...
मनोज कर्ण
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
जय श्री कृष्णा राधे राधे
जय श्री कृष्णा राधे राधे
Shashi kala vyas
■ सामयिक आलेख
■ सामयिक आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
'क्या कहता है दिल'
'क्या कहता है दिल'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
नव लेखिका
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
Manisha Manjari
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...