Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– चाँदनी रात आई है !!

!!! चांदनी रात आई है !!!
गज़लकार :- अनुज तिवारी “इंदवार”

शोले इश्क के दहकाती चांदनी रात आई है !
प्यार के नग्मे दुहराती चांदनी रात आई है !!

सजा कर ख्वाब की डोली सितारे साथ लेकर के !
दुल्हन सी सरमाती चांदनी रात आई है !!

लगाकर चांद की बिंदिया रौनक चांदनी लेकर !
जुल्फों को लहराती चांदनी रात आई है !!

होठ मे ओस की बूंदे नुमाइस प्यार की करती !
मिलन के गीत गुनगुनाती चांदनी रात आई है !!

शोले इश्क के भडकाती चांदनी रात आई है !
प्यार के नग्मे दुहराती चांदनी रात आई है !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

1 Like · 499 Views
You may also like:
दीप संग दीवाली आई
डॉ. शिव लहरी
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
Umender kumar
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
*हमारे त्योहार* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
✍️वो जहर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
तेरे रूप अनेक हैं मैया - देवी गीत
Ashish Kumar
शव
Sushil chauhan
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लोकतंत्र में मुर्दे
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
चार संस्कारी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
★डर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
“फैकबुक फ्रेंड”
DrLakshman Jha Parimal
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
Loading...