Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

ग़ज़ल (चल रही…..

ग़ज़ल

चल रही फिर से सुरभित।
वही चंचल पवन सुहानी है

जिसकी तारीफो को रहती।
हर कवि की कलम दिवानी है।

मधुमास हर फूल हर कोंपल पर।
नवतारिका सी छायी जवानी है।

यौवन प्रस्फुटित कलिकाओ पर।
भ्रमर गुंजन अजब लुभावनी है।

पूर्ण श्रृंगारित कलिकाओ पर।
कुदरत की ही मेहरबानी है।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
Rj Anand Prajapati
वो अनजाना शहर
वो अनजाना शहर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
एक जमाना था...
एक जमाना था...
Rituraj shivem verma
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
"दुर्भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
वर्षा का भेदभाव
वर्षा का भेदभाव
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
तोड़ा है तुमने मुझे
तोड़ा है तुमने मुझे
Madhuyanka Raj
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
रामभक्त हनुमान
रामभक्त हनुमान
Seema gupta,Alwar
जीवन का इतना
जीवन का इतना
Dr fauzia Naseem shad
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
पंखा
पंखा
देवराज यादव
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
Loading...