Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल( ऐतबार)

ग़ज़ल( ऐतबार)

जालिम लगी दुनिया हमें हर शख्श बेगाना लगा
हर पल हमें धोखे मिले अपने ही ऐतबार से

नफरत से की गयी चोट से हर जखम हमने सह लिया
घायल हुए उस रोज हम जिस रोज मारा प्यार से

प्यार के एहसास से जब जब रहे हम बेखबर
तब तब लगा हमको की हम जी रहे बेकार से

इजहार राजे दिल का बह जिस रोज मिल करने लगे
उस रोज से हम पा रहे खुशबु भी देखो खार से

जब प्यार से इनकार हो तो इकरार से है बो भला
मजा पाने लगा है अब ये मदन इकरार का इंकार से

ग़ज़ल :
मदन मोहन सक्सेना

169 Views
You may also like:
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️✍️ओढ✍️✍️
"अशांत" शेखर
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
Is It Possible
Manisha Manjari
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
kamal purohit
कर्म करो
अनामिका सिंह
यादें आती हैं
Krishan Singh
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
मिलन
अनामिका सिंह
Loading...