Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2023 · 1 min read

गली अनजान हो लेकिन…

खज़ाना चाहने वाला खज़ाना ढूँढ लेता है
उदर के वास्ते पंछी भी दाना ढूँढ लेता है

जिसे लत है नशे में डूबकर मदहोश होने की
गली अनजान हो लेकिन ठिकाना ढूँढ लेता है

उसे मालूम है जल जाएगा आगोश में आकर
तबाही फिर भी इक पागल दीवाना ढूँढ लेता है

मुझे बेदाग़ कहते हो तुम्हारा शुक्रिया लेकिन
कमी सब में ही अक्सर ये ज़माना ढूँढ लेता है

मुसीबत में बुजुर्गों से भी जाकर मशवरा करना
किसी मुश्किल का हल अनुभव पुराना ढूँढ लेता है

हुई ‘आकाश’ मुद्दत वो अभी आया नहीं मिलने
बड़ा है हो गया जबसे बहाना ढूँढ लेता है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 01/02/2023

280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
बस नेक इंसान का नाम
बस नेक इंसान का नाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
**
**"कोई गिला नहीं "
Dr Mukesh 'Aseemit'
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"कंजूस"
Dr. Kishan tandon kranti
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
New Love
New Love
Vedha Singh
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■निरुत्तर प्रदेश में■
■निरुत्तर प्रदेश में■
*प्रणय प्रभात*
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम वोट अपना मत बेच देना
तुम वोट अपना मत बेच देना
gurudeenverma198
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
कृष्णकांत गुर्जर
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/100.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...