Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

गलतियां

कभी कभी जीवन में ऐसी गलतियां हो जाती हैं,
जिनका प्रायश्चित करना मुमकिन नहीं हो पाता,और,
उनकी सजा ताउम्र मिलती रही है, और,
उनकी गलतियों की यादें हमेशा तरोताजा रहती हैं।
………………
फिल्म के सीन की तरह ये गलतियां,
हमेशा याद रहती हैं, जिसमें,
कभी खुद ही हीरो के किरदार में नजर आते हैं, तो,
कभी खुद ही विलेन नजर आते हैं,
कभी स्टोरी राइटर तो कभी प्रोड्यूसर नजर आते हैं।
…………………..
गलतियों की इस फिल्म में एक इंटरवल जरूर होता है,
जिसे प्रायश्चित कहते हैं, और,
इस इंटरवल में पिछली एक- एक घटना दृश्य के समान,
बदलती हुई नजर आती है, और,
जो भविष्य के जीवन के प्रति भी सचेत करती हैं।
………….
इंटरवल के बाद यदि इन्सान अपने में,
परिर्वतन करता है तो संभल जाता है जीवन,
अन्यथा शेष जीवन में गलतियों के,
बलंडर धमाके होना शुरू हो जाते हैं,
और एक दिन इन्सान गुनाहों के दलदल में,
पूरी तरह से लिप्त हो जाता है, और,
फिर शुरू होता है, यातनाओं का दौर
जिसमें उसे तरह तरह की यातनाएं मिलती हैं।
……….
यही यातनाएं दिनोंदिन इतना ज्यादा परेशान करती हैं,
कि वह नर कंकाल बन जाता है,
उसकी ठठरी कमजोर हो जाती है,
सांस और श्वास में अंतर नहीं रह पाता,
और, एक दिन समा जाता है वह मुट्ठी भर स्वाहा में।

घोषणा: उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक पेज या व्हाट्स एप ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर
भाषा अधिकारी,
निगमित निकाय भारत सरकार
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
1 Like · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ये लालच"
Dr. Kishan tandon kranti
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
मुजरिम हैं राम
मुजरिम हैं राम
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-359💐
💐प्रेम कौतुक-359💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिस्तर से आशिकी
बिस्तर से आशिकी
Buddha Prakash
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*Author प्रणय प्रभात*
गीत-14-15
गीत-14-15
Dr. Sunita Singh
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2459.पूर्णिका
2459.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
gurudeenverma198
" वो क़ैद के ज़माने "
Chunnu Lal Gupta
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
सत्य पथ पर (गीतिका)
सत्य पथ पर (गीतिका)
surenderpal vaidya
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
Loading...