Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*

गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
गर्मी की छुट्टी लो आई
हम बच्चों के मन को भाई
(2)
मई महीने के आते ही
नानी जी की याद सताई
(3)
गर्मी के मौसम में माँ ने
घर पर ठंडी खीर बनाई
(4)
गर्मी में जी-भर कर खाओ
आइस-क्रीम बर्फ ठंडाई
(5)
गुठली कौन आम की खाए
इसी बात पर हुई लड़ाई
(6)
लीची का है स्वाद निराला
वाह-वाह क्या जब भी खाई
——————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

2374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
गंगा- सेवा के दस दिन..पांचवां दिन- (गुरुवार)
गंगा- सेवा के दस दिन..पांचवां दिन- (गुरुवार)
Kaushal Kishor Bhatt
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
3240.*पूर्णिका*
3240.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम जैसा मनोभाव
राम जैसा मनोभाव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
होलिका दहन
होलिका दहन
Bodhisatva kastooriya
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
मुहब्बत मील का पत्थर नहीं जो छूट जायेगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
आगे हमेशा बढ़ें हम
आगे हमेशा बढ़ें हम
surenderpal vaidya
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
पूर्वार्थ
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
प्रलयंकारी कोरोना
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
Loading...