Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

गर्भपात

जो डर और दब कर जिया,वो कब जिया है?
ज़हन में शिगूफा बैठाले,फख्र से जिंदगी जिएंगे!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

कभी माँ, बहन और कभी बीबी बनकर सहा,
दुःख-दर्द और तेरी बलाओं को खुद लिया है!!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

संतान-संतान में फर्क तो खुदा ने नहीं किया!
खुदा के खुदगर्ज बंदो ने ये सिलसिला किया है!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

माँ को मिले बच्चे पिदाइश का हक ओ हकूक,
मर्दो ने अपने जानी औरत का शोषण किया है!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

गरीबी की दुहाई पर भीऔरत को दहेज महगांई,
पर बेटा होने पर जश्न और भोज ही दिया है!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

जागो जहाँ की माँ ,बहन और सारी बेटियो,
छीन लो मर्दों से वो हक, जो खुदा ने दिया है!
गर्भ में हम क्यों मरे, ऐसा हमने क्या किया है?

Language: Hindi
36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"वायदे"
Dr. Kishan tandon kranti
𑒖𑒲𑒫𑒢 𑒣𑒟 𑒮𑒳𑓀𑒠𑒩 𑒯𑒼𑒃𑒞 𑒁𑒕𑒱 𑒖𑒐𑒢 𑒮𑒿𑒑 𑒏𑒱𑒨𑒼 𑒮𑓀𑒑𑒲
𑒖𑒲𑒫𑒢 𑒣𑒟 𑒮𑒳𑓀𑒠𑒩 𑒯𑒼𑒃𑒞 𑒁𑒕𑒱 𑒖𑒐𑒢 𑒮𑒿𑒑 𑒏𑒱𑒨𑒼 𑒮𑓀𑒑𑒲
DrLakshman Jha Parimal
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
"दहलीज"
Ekta chitrangini
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
Ravi Prakash
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
ओ चंदा मामा!
ओ चंदा मामा!
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*प्रणय प्रभात*
2840.*पूर्णिका*
2840.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
मतदान और मतदाता
मतदान और मतदाता
विजय कुमार अग्रवाल
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
Loading...