Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

दोहे

दोहे
“””‘””
बर्फी, वड़ा दोऊ पड़े, काके पहले खाँय।
बलिहारि वड़ा आपनो, जिन सुगर नू बचाय।।

कोरोना ने मचाया, सर्वत्र हाहाकार।
धरती कराह रही है, मानवता चीत्कार।।

नर्स, डॉक्टर तो थे ही, प्रभु के प्रतिरूप।
पुलिस अरु हाकिम की छबि, करोना से अनूप।।

नीचे हैं नर्स-डॉक्टर, ऊपर हैं भगवान।
करोना के कारण ही, हाकिम भी बलवान।।

सेनिटाइजर अउ मास्क, करोना से बचाय।
सस्ता, सरल है तरीका, चलो सबको बचाय।।

सम्पति तो सबै अरजें, खरचे विरला कोय।
जनहित कारने खरचे, सोई सुजान होय।।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
Raju Gajbhiye
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
2950.*पूर्णिका*
2950.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*ये दुनिया है यहाँ सुख-दुख, बराबर आ रहे-जाते 【मुक्तक 】*
*ये दुनिया है यहाँ सुख-दुख, बराबर आ रहे-जाते 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
Koमल कुmari
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
#लघुकथा / #हिचकी
#लघुकथा / #हिचकी
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...