Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2023 · 1 min read

गरीब हैं लापरवाह नहीं

गरीब हैं लापरवाह नहीं

हम लोग गरीब हैं पर नहीं लापरवाह
अपनी ही नहीं हमें सबकी है परवाह।
भरपेट खाना नहीं पूरे कपड़े भी नहीं।
कम है इस बात का हमें गम नहीं
माँगने की हमें कोई भी चाह नहीं।
उजला मन हमारा, उसमें कोई खोट नहीं।
भले ही कम खाते हैं इसका गम नहीं
खुशियाँ बाँटते हैं लोगों में, गम नहीं।
चाहत नहीं हमें महल और हवेली की
जिंदगी में सुकून है अपनी झोपड़ी की।
हम समय के साथ चलना जानते हैं
कम खर्चे में गुजारा कर लेते हैं।
महंगे मास्क खरीद न सके तो क्या हुआ
पत्तों से हम बचकर औरों को बचाते हैं।
सिर्फ अधिकार ही नहीं, कर्तव्यों का भी
ज्ञान है हमें, जिम्मेदारी निभाते हैं सभी।
चाहे कितनी विपदा आएँ पास हमारे
डटकर मुकाबला करें हिम्मत के सहारे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ Rãthí
*.....थक सा गया  हू...*
*.....थक सा गया हू...*
Naushaba Suriya
तुम कहो कोई प्रेम कविता
तुम कहो कोई प्रेम कविता
Surinder blackpen
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
अपनेपन की रोशनी
अपनेपन की रोशनी
पूर्वार्थ
"त्रिशूल"
Dr. Kishan tandon kranti
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
जोगीरा
जोगीरा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
शेखर सिंह
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
💐प्रेम कौतुक-428💐
💐प्रेम कौतुक-428💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जेठ कि भरी दोपहरी
जेठ कि भरी दोपहरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*हारो तो उठकर करो, दूने श्रम से काम (कुंडलिया)*
*हारो तो उठकर करो, दूने श्रम से काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
■ आज का कटाक्ष...
■ आज का कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
वो शिकायत भी मुझसे करता है
वो शिकायत भी मुझसे करता है
Shweta Soni
Loading...